UP TET 2018 challenges- यूपी टीईटी 2018 दो दिन बाद होनी है

0

उप्र शिक्षक पात्रता परीक्षा यानि यूपी टीईटी 2018 दो दिन बाद होनी है। इसमें परीक्षा संस्था के साथ ही आबेदन करने वालों के समक्ष भी तमाम चुनौतियां हैं। परीक्षार्थियों ने यदि आधारभूत सूचनाएं यानी अनुमकि व पंजीकरण नंबर आदि भरने में गलती की हैं तो उनका परीक्षा बाहर होना तय है।

UP Teacher Eligibility Test i.e. UP TET 2018 is to be  begin two days later. In it, there are all the challenges before the examination institution and the candidates. If the candidates have made mistakes in filling basic information like admission and registration number etc., their exam is scheduled to be taken out.

इस मामले में अब कोर्ट भी किसी तरह की राहत नहीं देगा, क्योंकि सुप्रीम कोर्ट 2017 की परीक्षा को लेकर तल्ख

टिप्पणी कर चुका है। यूपी टीईटी 2017  में शामिल होने वाले हजारों अभ्यर्थियों  ने अपना अनुक्रमांक व पंजीकरण नंबर आदि जैसी अहम सूचनाएं गलत दर्ज कर दी थी। इसके बाद भी परीक्षार्थी ओएमआर शीट का मूल्यांकन कराने को अड़े थे।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने परीक्षार्थियों की यादिका खारिज कर दी तो उसे शीर्ष कोर्ट में चुनौती दी गई।

Only4UPTET Best Vacancy:
1 of 12

इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश को चुनौती देने वाली कुलदीप तिवारी व अन्य की याचिका की सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति मदन बी लोकुर व जस्टिस दीपक मिश्रा ने तल्ख टिप्पणी की।

Both the judges said that if a candidate can not write his roll number properly, he has no right to pass the examination. Such candidates can not be given any concessions. The Supreme Court had rejected the petition about the previous case. As there are instructions in the adjacent examination, in the case of repeating the mistake of the candidates of 2017, they will also get out of the examination.

दोनों न्यायाधीशों ने कहा कि जो अपना रोल नंबर ठीक से ही लिख सकता, उसे परीक्षा पास करने का हक नहीं है।ऐसे परीक्षार्थियोको कोई रियायत नहीं दी जा सकती।’ शीर्ष कोर्ट ने याचिका खारिज कर दी थी। आसन्न परीक्षा में भी पहले जैसे ही निर्देश हैं ऐसे में 2017 के अभ्यर्थियों की गलती दोहराने पर उनका भी परीक्षा से बाहर होना तय है।

 

यूपी टीईटी 2018 से पहले इन बातों का रखें ध्यान

  1. प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा में ढाई-ढाई घटे का समय तय है।
  2. परीक्षा शुरू होने से 30 मिनट पहले  केद्र पर पहुंचना होगा, तभी प्रदेश मिलेगा।
  3. परीक्षा शुरू होने के दस मिनट बाद  परीक्षार्थियों को प्रवेश नहीं दिया जाएगा।
  4. परीक्षा से संबंधित एडमिट कार्ड पहचान पत्र व पैन दिलाना जरूरी है।
  5. बीएड या बीटीसी में से किसी भी सेमेस्टरका – मूल अंकपत्र जरूर ले जाएं। मुले अंकपत्र न होने की दशा में प्रशिक्षण संस्था के रिजस्ट्रार या सम प्राधिकारी से इंटरनेट से प्राप्त अंकपत्र सत्यापित कर ले।
  6. प्रशिक्षु शिक्षक यह परीक्षा दे सकते हैं, उन्हें विभाग से प्रमाणपत्र लाना होगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.